On Page SEO कैसे करते हैं? 2022

0
45

On Page SEO कैसे करते हैं?

दोस्तों प्रत्येक ब्लॉगर की यही इच्छा होती है। कि उसका ब्लॉग या वेबसाइट गूगल में अच्छी तरीके से रैंक करें। जिसकी वजह से वह हुई पैसा कमा पाई मगर बहुत सारे ऐसे ब्लॉगर होते हैं। जिन्हें हार का मुंह देखना पड़ता है। लेकिन ऐसे समय में वह अगर on page SEO techniques पर सही से वर्क करेंगे तो उनकी वेबसाइट भी चलने लगेगी और ट्रैफिक भी आएगा। और यह सब एक ही वजह से होता है। वैसे तो इन सब के पीछे बहुत सारी बधाई होती है।

लेकिन जो सबसे ज्यादा इंपॉर्टेंट सी होती है। वह होती है। राइटिंग स्किल्स और SEO यानी कि Search Engine Optimisation अगर कोई व्यक्ति इसके बारे में अच्छे से जान लेता है। तो वह अपनी वेबसाइट को अच्छे से गूगल में रैंक कर सकता है। और इसी वजह से उनकी पोस्ट कैपेबल नहीं होती और ना ही वह गूगल के सर्च इंजन में फर्स्ट पेज पर नहीं आ पाती है। तो आपकी इसी समस्या को दूर करने के लिए हम यह आर्टिकल से स्पेशल आपके लिए लेकर आए हैं।

हम आपको यहां पर एक बात और बताना चाहेंगे कि आर्टिकल की रैंकिंग के लिए केवल on page SEO ही काफी नहीं होता है। बल्कि और भी कई चीजें होती हैं। जो कि बहुत ज्यादा मैटर करती हैं। उनके बारे में भी हम आज किस पोस्ट के अंदर डिस्कस करने वाले हैं। कहने का मतलब है सब कुछ आज के आर्टिकल में हम कवर करने वाले हैं। इसलिए इस पोस्ट को शुरू से लेकर एंड तक जरूर पढ़ें।

On Page SEO क्या है?

तो चलिए साथियों पहले हम आपको SEO यानी कि Search Engine Optimisation के बारे में विस्तार पूर्वक समझा देते हैं। तो साथियों वैसे तो आप इसके नाम से ही समझ चुके होंगे कि वेबसाइट को कुछ इस प्रकार से ऑप्टिमाइज करना पड़ता है। क्योंकि सर्च इंजन जैसे कि गूगल या फिर Bing इन सभी के लिए फ्रेंडली हो जाए और दोस्तों SEO के दो भाग होते हैं।

1. Off page SEO
2. On page SEO

आज की इस पोस्ट के अंदर हम स्पेशल On Page SEO के बारे में चर्चा करने वाले हैं। और आपको बताने वाले हैं। कि आप अपने आर्टिकल या फिर पोस्ट को किस तरीके से ऑप्टिमाइज कर सकते हैं। जिसकी वजह से वह search engine फ्रेंडली बन सके और दोस्तों on page SEO के अंदर भी ऐसी कई महत्वपूर्ण चीजें होती हैं। जो कि आपके आर्टिकल को रैंक करवाने में काफी मदद करते हैं। और उनके बहुत सारे फायदे भी होते हैं।

आखिरकार On Page SEO जरूरी क्यों होता है?

अब दोस्तों हम आपको बताने वाले हैं। कि on page SEO जरूरी क्या होता है? सबसे पहले यह जान लें कि इससे आर्टिकल की रैंकिंग बढ़ने लग जाती है। सबसे बड़ा फायदा इसका यह होता है किसकी जो रैंकिंग इनक्रीस होती है। क्योंकि on page SEO के अंदर ऐसी बहुत सारी चीजें उपलब्ध होती हैं। जिनकी वजह से आपका आर्टिकल सर्च लिस्ट में सबसे ऊपर आ जाता है।

फिर आप की रैंकिंग भी बढ़ती चली जाती है। इसका दूसरा सबसे बड़ा फायदा ऑडियंस रिटेंशन को बढ़ाना होता है। यानी कि जो यूजर आपके पोस्ट को पढ़ रहे हैं। वह आपके आर्टिकल पर जान से ज्यादा समय बिताएंगे ऐसे में अगर आप लोग On Page SEO एवं अपने आर्टिकल में ऐसी इंफॉर्मेशन दे जो कि लोगों के काम में आए तो फिर लोग आपकी पोस्ट को जरूर पढ़ते हैं। इससे बाउंस रेट कम हो जाता है। और यह आपकी वेबसाइट के लिए काफी अदा इंपॉर्टेंट होता है।

बस इसी वजह से On Page SEO के बारे में जानना बेहद आवश्यक होता है। मगर बहुत सारे नए ब्लॉगर ऐसे होते हैं। जो कि ऐसी चीजों को इग्नोर कर देते हैं। और उनकी सारी मेहनत बर्बाद चली आती है। एवं उन्हें अच्छा रिजल्ट देखने के लिए नहीं मिलता है। इसलिए आप उन गलतियों को मत करना जिसकी वजह से आपकी भी मेहनत बर्बाद हो जाए अगर आप लोग on page SEO को थोड़ा सा भी सीरियस ले लेते हो तो ऑटोमेटिक आपके आर्टिकल रैंक होने लग जाएंगे। तो चलिए ज्यादा समय ना गवाते हुए on page SEO के बारे में अच्छे से समझ लेते हैं।

On Page SEO करने का तरीका ?

तो दोस्तों यहां पर मेन काम स्टार्ट होने वाला है। इसलिए जो भी चीज में आपको यहां से बताने वाला हूं। उसके एक एक पॉइंट को आपको बिल्कुल डिटेल्स के साथ समझाने वाला हूं। इसलिए आपको एक भी स्टेप्स को मिस नहीं करना है। और हर एक दोस्त को अच्छे से पढ़ लेना है। ताकि आप लोग एक परफेक्ट on page SEO कर पाए।

(1) टाइटल को Optimise करके Eye Catching बनाना

तो सबसे पहली गलती यहां पर ब्लॉगर यह करते हैं। कि वह रेंडम टाइटल सिलेक्ट करके लिख देते हैं। मगर आपको ऐसे यहां पर बिल्कुल भी नहीं करना है। दोस्तों टाइटल ही हुआ पहला इंप्रेशन माना जाता है। जिस पर हर एक यूजर की नजर पड़ती है। मान लो अगर कोई गूगल या फिर वेबसाइट में अभी सर्च करेगा तो वह आर्टिकल का टाइटल ही लिखकर सर्च करता है।इसी वजह से यहां पर यह चीज बहुत ज्यादा जरूरी होती है। कि आपका आर्टिकल एकदम अट्रैक्ट और इंटरेस्ट होना चाहिए।

वह यह टाइटल ही आपके पूरे आर्टिकल को explain कर पा रहा हो। तभी यूज़र पर क्लिक करेंगे और आपके यूजर को यह समझने में भी आसानी हो जाएगी कि इस पोस्ट के अंदर किस प्रकार की जानकारी छुपी हुई है। एक बात और SEO फैंड्री टाइटल के अंदर keywords का होना बहुत ज्यादा मायने रखता है। और हां आपको आर्टिकल लिखने से पहले कीवर्ड रिसर्च भी करनी चाहिए। क्योंकि इससे आपके पार्टीकलर टॉपिक पर जिस पर आप काम कर रहे हो उसकी अच्छी जानकारी मिल जाती है।

कहने का मतलब है जो भी आपका फोकस कीवर्ड हो वह आपके टाइटल में ऐड होना ही चाहिए। जिसकी वजह से गूगल भी डिटेक्ट कर पाएगा। के इस बंदे के आर्टिकल में सर्च किया जाने वाला कीवर्ड उपलब्ध है। तभी वह आपकी पोस्ट को सर्च लिस्ट में भेज पाता है। और आपको अब तक समझ में नहीं आया तो मैं आपको बता दूं कि हमारी इस पोस्ट के अंदर on page SEO फोकस कीवर्ड ही है।

(2) Description

दोस्तों टाइटल के बाद जो दूसरी सबसे महत्वपूर्ण चीज आती है। वह होता है। डिस्क्रिप्शन और इसे meta description भी बोल सकते हैं। तो साथियों यहां पर टाइटल के जैसे यह भी बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है। मान लो आपने अपने आर्टिकल के अंदर किसी भी प्रकार का कोई डिस्क्रिप्शन ऐड नहीं किया है। तो ऐसे में गूगल यहां पर कोई भी सर्च इंजन खुद ही आपके आर्टिकल में से random paragraph को उठाकर और डिस्कशन में दिखा देता है।

इसलिए आप यह गलती नहीं करें आप एक SEO friendly description लिखें बहुत सारे लोगों को डिस्क्रिप्शन लिखने के बारे में पता नहीं होता है। तो हम आपको यहां पर बता दें डिस्क्रिप्शन के अंदर आपका focus keyword जरूर add होना चाहिए। और आपको उसके अंदर यह देखना है। कि आपने इस पोस्ट के अंदर क्या बताया है। आप डिस्क्रिप्शन मैं 150 शब्दों की आसानी से जानकारी दे सकते हो।

(3) Media

साथियों अगर आप लोग अपने ही पोस्ट के अंदर मीडिया का उपयोग करते हो तो इससे आपकी रैंकिंग तो बढ़ती ही है। बल्कि साथ में ऑडियो रिटेंशन भी काफी इंक्रीज हो जाता है। यूजर को आपकी पोस्ट को पढ़ने में काफी अच्छा लगता है। उदाहरण के तौर पर हम आपको बता दें, कि मीडिया के अंदर आपको image , videos , infographic इन जैसी चीजों का उपयोग में लाना है।

आप लोग अपने आर्टिकल के अंदर थंबनेल या फिर वीडियो अपलोड करते हो तो इतने आपके आर्टिकल के फर्स्ट पेज पर आने के चांस कई गुना बढ़ जाते हैं। फ्री आपको मीडिया का उपयोग जरूर करना है। आप भले ही छोटा टीके लगते हैं। मगर उसके अंदर 4 या 5 इमेज जरूर अपलोड होनी चाहिए। आप चाहो तो royalty free image को भी उपयोग कर सकते हो वह आपको बिल्कुल फ्री में मिल जाती हैं।

(4) Linking

हां दोस्तों यह है बहुत ही महत्वपूर्ण पॉइंट है। मगर इसके बावजूद भी बहुत सारे ब्लॉगर इस चीज को अनदेखा कर देते हैं। मगर आपको ऐसा यहां पर बिल्कुल नहीं करना है। दोस्तों सबसे पहले तो हम आपक यहां पर यह बता देते हैं। कि linking करने के 2 तरीके होते हैं।

(a) Internal Linking

साथियों इस internal linking का यह मतलब होता है। क्या आप लोग अपनी ही पोस्ट में अपनी ही वेबसाइट के आर्टिकल की लिंक दे सकते हो और यूजर्स को अपने आर्टिकल पर घुमा सकते हो और आपने यह चीज नोटिस भी की होगी कि गूगल में जो आर्टिकल फर्स्ट पेज पर रैंक करता है। अगर आप उसे चेक करोगे तो उसके अंदर आपको कई internal linking देखने के लिए मिलेंगे जैसे आपने ब्लॉगिंग से संबंधित आर्टिकल दिखाओ तो आप इस आर्टिकल में ब्लॉगिंग से संबंधित ही आर्टिकल की लिंक को ऐड कर सकते हो।

(b) Outbound Linking

दोस्तों इस लिंक को external linking भी कहा जाता है। हम आपको यहां पर बता दें कि यह internal linking का बिल्कुल उल्टा होता है। उस वाली लिंकिंग में आपने सीखा कि आप लोग इंटरनल लिंक लगाकर यूजर को अपनी वेबसाइट पर घुमा सकते हो मगर यहां पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता है। external linking के माध्यम से आप लोग अपनी किसी आर्टिकल में किसी दूसरी वेबसाइट की लिंक दे सकते हो उदाहरण के तौर पर हम आपको बताएं मान लो आपने hosting परचेस करने के ऊपर कोई पोस्ट लिखी है। तो आप उसमे hosting seller के बारे में बता सकते हो जैसे थे। hostinger, Godaddy, और resellerclub आदि। तो यहां पर यही आपकी external यानी कि outbound linking बन जाती है।

(5) Permalink

दोस्तों permalink यानी कि आपके आर्टिकल का URL ( uniform resource locator) link होती है। कहने का मतलब है टाइटल एवं डिस्क्रिप्शन के जैसे ही सर्च रिजल्ट में आपके आर्टिकल की permalink दिखाते हैं। इसी वजह से आपको अपनी परमाल इनके के अंदर पोस्ट का फोकस की ओर जरूर ऐड करना चाहिए। जिससे सर्च इंजन यह पता लगा पता है। कि आपका आर्टिकल किस टॉपिक पर है। आपको बता दें permalink पर यूजर भी क्लिक करके आपके आर्टिकल पर विजिट करता है। इसलिए आपको permalink पर भी जरूर ध्यान देना चाहिए।

(6) Keyword Implementation

दोस्तों आपका जो आर्टिकल है। वह कौन से keyword पर रैंक कर सकता है। यह सब keyword implementation किंग पर ही डिपेंड होता है। क्यों दोस्तों गूगल हो या फिर कोई भी सर्च इंजन हो वह आपके आर्टिकल के अंदर उस वाले कीवर्ड को ढूंढता है। जो यूजर के द्वारा सर्च किए जाते हैं। इसलिए आपने कीवर्ड रिसर्च तो की होगी इसलिए आपको अपने आर्टिकल के अंदर फोकस कीवर्ड जरूर डाल देना है। तो साथियों यह कुछ महत्वपूर्ण बातें होती हैं। जिन्हें आप को ध्यान में रखना होता है। अगर आप लोग इन सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए काम करोगे तो फिर आपके आर्टिकल भी यानी कि आपकी वेबसाइट की रैंकिंग बढ़ने लग जाएगी।

🔍Blog Post को गूगल में रैंक कैसे?

🔍Facebook से पैसे कैसे कमाए?

🔍पेटीएम सर्विस एजेंट बनकर पैसे कैसे कमाए?

निष्कर्ष (conclusion)

साथियों आज किस पोस्ट के अंदर हमने आपको on page SEO के बारे में बताया है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारी इस पोस्ट को पढ़ने के बाद बहुत कुछ नया सीखने के लिए मिला होगा और अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो आप इसे शेयर भी कर सकते हैं। आप अपना कीमती समय निकालकर हमारे इस लेख को पढ़ा इसके लिए शुक्रिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here